Wazifa for Bad Dreams || बुरे सपने का वजीफा (उर्दू में भी)

wazifa-for-bad-dreams

In this post you will get wazifa for bad dreams with two language which is hindi and english.

What we see in our dreams is the reflection of our thoughts and the things that influence us in life. Sometimes dreams are interrupted by the Devil means Shaytan in that case person encounters bad dreams or fearful dreams. It also happens when any person put curses on someone or someone send evil things to harm other people.

Benefits of reading Wazifa for Bad Dreams:-

1. Read Surat al Ikhlas 7 times.
2. After that read the given Dua 131 times.
3. After reading Dua again read Surat al Ikhlas 7 times.
4. Now spit on your left side.
5. You will never encounter any bad dream.

بِسْمِ اللهِ الرَّحْمنِ الرَّحِيمِ

Dua :

“ Laa hawla wala quwwata illa bila Or Aauzo billah hi minash shaitan nirrajeem ”

Precautions to be followed while reading Wazifa for Bad dreams ??

1. Read this Wazifa before sleeping.
2. Do not eat or drink anything after reading this Wazifa.

3. You can eat or drink in the morning.

Surat Al Bhukhari in English:-

“ Ash-Shaikh Al-Imam Al-Hafiz Abu Abdullah Muhammad Bin Isma’il bin Ibrahim bin Al-Mughira Al-Bukhari ”

Surat Al Bhukhari in Arabic :-

“ قَالَ الشَّيْخُ الامَامُ الْحَافِظُ أَبُو عَبْدِ اللهِ مُحَمَّدُ ابْنُ إِسْمَاعِيلَ بْنِ إِبْرَاهِيمَ بْنِ الْمُغِيرَةِ الْبُخَارِيُّ رَحِمَهُ اللهُ تَعَالَى امِين ”


वजीफा बुरे ख्वाबों के लिए

हम अपने ख्वाबो में वो देखते है जो हमारे आस पास हो रहा होता है या फिर जिसके बारे में हम ज्यादा सोचते हैं || कई बार हमारे ख्वाबो में शैतान दखल देने लग जाता है और इंसान को डरावने या फिर बुरे ख्वाब आने लग जाते हैं || यह इसलिए होता है जब कोई एक इंसान दुसरे इंसान के ऊपर कोई काला जादू जैसे ताक़तें भेज देता है || यह इसलिए किया जाता है या तो किसी दुश्मन से बदला लेने के लिए या फिर किसी को तंग करने के लिए || वजीफा बुरे ख्वाबों के लिए एक बहुत ताकतवर अमल है जिसको करने से बुरे ख्वाब आना बंद हो जाएंगे ||

वजीफा बुरे ख्वाबो के लिए-पढ़ने का तरीका :-

1. पहले सूरत अल इखलास को 7 मर्तबा पढ़े ||
2. फिर नीचे दी गयी दुआ को 131 मर्तबा पढ़े ||

दुआ:

“ ला हवला वला क़ुव्वता इल्ला बिला ओर आऊज़ो बिल्लाह ही मिनाश शैतान निर्रजीम ”

3. दुआ पढ़ने के बाद फिर से सूरत इखलास 7 मर्तबा पढ़े ||
4. फिर अपने उलटे हाथ की तरफ थूक दें ||
5. इंशा अल्लाह फिर कभी आपको बुरे ख्वाब नहीं आएंगे ||

इस वजीफा को पढ़ते वक़्त नीचे दी बातों का जरूर ख्याल रखे :-

1. यह वजीफा सोने से पहले पढ़ना है ||
2. वजीफा पढ़ने के बात कुछ भी खाना पीना नहीं है ||
3. अआप सुबह उठकर खा पी सकते हैं ||

पाक क़ुरान शरीफ में बुरे ख्वाबो के बारे में क्या फ़रमाया गया है ??

पाक क़ुरान (सूरत अल बुखारी) में फ़रमाया गया है की अगर किसी को कोई अच्छा ख्वाब आता है तो वो ख्वाब को किसी और को न बताये या फिर सिर्फ उसी इंसान को बताये जिसको वो सबसे ज्यादा मोहोबत करता है || और अगर किसी को बुरे या दराज़ने ख्वाब आते है तो उस शख्स को अल्लाह से पनाह ले लेनी चाहिए और आने वाले बुरे ख्वाबो से निजात हो जाएगी |||

सूरत अल बुखारी इंग्लिश में :-

“ Ash-Shaikh Al-Imam Al-Hafiz Abu Abdullah Muhammad Bin Isma’il bin Ibrahim bin Al-Mughira Al-Bukhari ”.

दरूद शरीफ की फजीलत

अल्लाह के प्यारे हबीब हजरत मोहम्मदﷺ का  फरमान ए रहमत निशान हैं |
जो मुझ पर शबे जुमा और रोज़े जूमा 100 बार दुरूद शरीफ पढ़े अल्लाह ताला उसकी 100 हाजते पूरी फरमाएगा 70 आखिरत की और 30 दुनिया की वजीफा के शुरू में 11 बार दरूद शरीफ पढ़ना है |

अगर हम कोई वजीफा करते हैं और उस वजीफा से फायदा जाहिर नहीं होता तो शिकवा शिकायत करने की बजाए अपनी को कोताहियों की शामत तसव्वर कीजिए अल्लाह की हिकमत पर नजर रखें

इस बात को याद रखें

वजीफा कमल है हकीकी मौएसिर अल्लाह की जात
जो अल्लाह जाएगा वही होगा कोई भी अमल करते वक्त अल्लाह की तरफ लो लगाए रखें यकीन के साथ अमल करें

नमाजे पंज गाना की पाबंदी भी जरूरी है
क्योंकि नमाज खुद एक कामयाबी है और उस कामयाबी को मजबूती से थाम ले

वजीफा करते वक्त सादा खाना खाए जैसे जो की रोटी
और रिस्की हलाल का ख्याल रखें
क्योंकि हराम माल खुद एक बहुत बड़ी आफत है
जिसके पेट में जाएगा उसकी कोई दुआ कबूल नहीं होगी लिहाजा रिस्की हलाल का इस्तेमाल करें
हराम चीजों से बचते रहे

Wazifa for bad dreams :

दिल और निगाह को पाके रखें

वज़ीफ़ा और ज़िक्र किसे कहते हैं और दोनों में क्या फर्क है

वज़ीफ़ा किसे कहते हैं

वज़ीफ़े का मतलब पढ़ने वाला अमल होता है जिस अमल को पढ़ कर दुआ की जाये उसे वज़ीफ़ा कहते है

ये वज़ीफ़ा कोई भी कलाम हो सकता है जैसे क़ुरआन, हदीस,असमाउल हुस्ना (अल्लाह के 99 नाम) आसमां  उन नबी (नबी के 99 नाम) दुरूद शरीफ, दुआएं वग़ैरह

क़ुरानी वज़ीफ़ा किसे कहते है

वो वज़ीफ़ा जिस में क़ुरानी आयत या सूरत हों कुरानी वजीफा कहलाता है

नूरानी वज़ीफ़ा किसे कहते है

अगर क़ुरानी कलाम के अलावा हदीस,असमाउल हुस्ना (अल्लाह के 99 नाम) आसमां उन नबी (नबी के 99 नाम) दुरूद शरीफ, दुआएं वग़ैरह पढ़ी जाएँ तो उस को नूरानी वज़ीफ़ा कह सकते है क़ुरानी नहीं |

वज़ीफ़ा और ज़िक्र में फ़र्क़

वज़ीफ़ा : इस में पढ़ने वाले का कोई दुनयावी मक़सद होता है

ज़िक्र : इस में पढ़ने वाले का मक़सद सिर्फ अल्लाह की ख़ुशी,अपनी आख़िरत,और सवाब,या पीर के बताये हुए कोई ज़िक्र पढ़े तो उसको ज़िक्र कहते है वज़ीफ़ा नहीं

दोनों में सिर्फ नियत का फ़र्क़ है वो ये कि वज़ीफ़े पढने में कोई दुनयावी मक़सद होता है और ज़िक्र में सिर्फ अल्लाह कि रिज़ा मक़सूद होती है दोनों को पढ़ा जाता है दोनों को दम नहीं किया जाता दोनों को पढ़ कर दुआ की जाती है |

Darood Sharif ki ahmiyat aur uske Faizal

darood Sharif ki ahmiyat aur uske Faisal Allah tala Quran Sharif mein irshad farmata hai
اِنَّ اللّٰہَ وَ مَلٰٓئِکَتَہٗ یُصَلُّوۡنَ عَلَی النَّبِیِّ ؕ یٰۤاَیُّہَا الَّذِیۡنَ اٰمَنُوۡا صَلُّوۡا عَلَیۡہِ وَ سَلِّمُوۡا تَسۡلِیۡمًا
Tarjuma
بیشک اللہ اور اس کے فرشتے درود بھیجتے ہیں اس غیب بتانے والے (نبی) پر، اے ایمان والو! ان پر درود اور خوب سلام بھیجو (ف۱٤٦)
beshak Allah aur uske farishte durood bhejte Hain use Gaye batane wale Nabi per Ae iman walo UN par durood aur khoob salam bhejo.

Tafseer e khazanul irfan

Syed alam sallallahu tala alaihi wasallam par durood o salam bhejna wajib hai har EK Majlis mein aapka jikr Karne Wale per bhi aur sunane wale per bhi ek martaba aur usse jyada musthab hai yahi qol moatamad hai our is par jamhor hai our namaz ke qada akhira me bad e tashahud darood Sharif parhna sunnat hai our aap ke tabe Kar ke Aap ke aal wa as’hab wa dosare momineen par durood bheja ja sakta hai
Yani darood Sharif mein aapke naam aqdas ke bad UN ko shamil Kiya ja sakta haib
Mustkil taur per huzoor Ke Siva unmen se kisi par durood bhejna makrooh hai.

Masala

Durood Sharif mein main aal our asahab ka zikr mutwaris hai
Aur yah bhi Kaha gaya hai ki all ke zikar ke bagair maqbool Nahin -durood Sharif Allah tala ki taraf se Nabi Kareem sallallahu tala alaihi vasllam ki takreem hai
Aullma kiram be
Allah humma sallay ala Muhammad Ke mana yah byan kiye Hain ki ya Rab Muhammad Mustafa sallallahu tala Ali salam ko ajmat ata farma
duniya mein unka din buland unki dawat Galib farma kar aur unki sharyat ko baqa enayat kar ke aur aakhirat mein unki sifaat qabool farma kar aur un Ka sawab jyada Karke aur awalene aakhireen per unki fazeelat ka izhaar farma Kar our anbiya mursalin wa malaika our tamam khalqat par un ki Shan buland farma.

Masala

Darood Sharif ki bahut barkat aur fazilat Hain hadees Sharif mein hai Syed alam sallallaho tala vasllam ne farmaya ki jab durood bhejne wala mujh par durood bhejta hai to farishtay uske liye Dua a magfirat Karte Hain Muslim ki hadees Sharif mein hai ki jo mujhmein per ek bar durood bhejta hai Allah tala use per 10 bar bhejta hai tirmizi ki hadees Sharif mein hai hi bakhil wo hai jiske samne Mera jikr kiya jaaye aur vah mujhh par darood na bheje.

Wazifa ke liye ijazat Kaya hai

Agar aap Kisi Amal ko jikr ki niyat se padhte Hain usmein aapko ijazat ki jarurat Nahin hai

Agar aap use Amal ko Kisi khas kaam ke liye padhte hain to usmein aapko ijazat ki jarurat hai ijazat aap apne ustad yah Apne pir-e-kamil se a le sakte hain

Bagair ijazat ke wazifa kaise karen

Agar aap Kisi Amal ko zikr ki niyat se padhen aur sath sath apna khas maksad ki niyat bhi shamil kar len to usmein aapko ijazat ki jarurat Nahin hai.

Wazifa karne ki sharten

(1) sabse pahle apna imaan aur aqeeda bilkul Quran pak ke mutabik ho agar ismein kuchh Kami ho ho to use ki islah Karen
(2) batchit kam Karen yani fazul baaton se parhez Karen
(3) khana bhi kam khae  Ho sake to jo roti khayen Khana jitna sada Hoga wazifa utna hi kamyab hoga
(4) jhooth se bilkul dur rahe
(5) wazifa ke sath sath Allah tala ke jikr ki niyat bhi rakhe take sawab bhi mile
(6) Pancho namaze waqt per Ada Karen kyunki namaz khud ek kamyabi hai
(7) halal rizq dikhayen kyun ki haram rizq khud bahut badi aafat hai jab haram lukma pet mein jata hai tu bante ki Dua qabool Nahin Hoti.

Wajifa Karne Ka tarika

Allah Ke pyare Habib hazrat Muhammadﷺ ka farman e Aali Shan hai
Jo mujh par roze juma aur shabe juma 100 bar durood Sharif padega Allah tala uski 100 hajate Puri farmiga
70 akhirat ki 30 duniya ki

Wazifa ke shuru mein 11 bar darood Sharif padhna hai

Darood Sharif yah hai

اَللّٰھُمَّ صَلِّ عَلٰی مُحَمَّدٍ وَّ عَلٰٓی اٰلِ مُحَمَّدٍ کَمَا صَلَّیْتَ عَلٰٓی اِبْرٰھِیْمَ وَعَلٰٓی اٰلِ اِبْرٰھِیْمَ اِ نَّکَ حَمِیْدٌ مَّجِیْدٌط اَللّٰھُمَّ بَارِکْ عَلٰی مُحَمَّدٍ وَّعَلٰٓی اٰلِ مُحَمَّدٍ کَمَا بَارَکْتَ علٰٓی اِبْرٰھِیْمَ وَعَلٰٓی اٰلِ اِبْرٰھِیْمَ اِنَّکَ حَمِیْدٌ مَّجِیْدٌ
Allah humma sallay ala mohammadin wala Ali Mohammed kama salleta ala ibrahima wa ala Aali ibrahima inka hamidum majeed
Allahumma barik Ala Muhammadin wa ala Aali Mohammed din
kama bharakta ala ibrahima wa ala Aali ibrahima inka hamidum majeed

Aur yahi darood Sharif wazifa ke aakhir mein main 11 bar padhna hai

Aur is darood Sharif ke alava dusra durood Sharif padh sakte hain jo aapko yad ho

Yad rahe Koi wazifa ya Amal karte waqt agar usse fayda jahir Na ho ho
To shikva shikayat karne ke bachaye apni galtiyan per dhyan den
Aur Allah Pak ki hikmet per najar rakhen

Is baat ko khoob samajh le

Wazifa ek kalam hai hakiki mauaasir Allah ki zat hai
Jo Allah chahega vahi hoga
Wazifa karte waqt Allah ki taraf lo lagaye rakhen Pure yakin ke sath wazifa Karen.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*